धनतेरस के साथ २८ अक्टूबर २०१६ से पांच दिवसीय दीपोत्सव का प्रारंभ


धनतेरस :- २८ अक्टूबर २०१६ शुक्रवार
धनतेरस यानी समृद्धि का पर्व समुद्र मंथन से इसी दिन भगवान धन्वंतरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। इसलिए इस दिन धन और धन्वंतरि का पूजन होता है। जमीन, घर, वाहन, बर्तन और सोना-चांदी में निवेश करने की परंपरा है। अधिक पढें ... 

रूप / नरक चतुर्दशी :- २९ अक्टूबर २०१६ शनिवार
रूप चतुर्दशी यानी स्वास्थ्य का पर्व। तेल व उबटन से स्नान और शृंगार का महत्व। तेल में लक्ष्मी और जल में गंगा का वास है। इसी दिन कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था। शाम को हनुमान मंदिर में दीपदान कर यमराज के निमित्त 14 दीपक का विधान है। अधिक पढें ... 

दीपावली :- ३० अक्टूबर २०१६ रविवार 
दीपावली यानी सौभाग्य का उत्सव। श्री गणेश सहित लक्ष्मी, कुबेर और सरस्वती का पूजन सुख, समृद्धि लेकर आता है। आज ही के दिन समुद्र मंथन से लक्ष्मी प्रकट हुई थीं। प्रसन्नता के लिए श्रीसुक्त, लक्ष्मी सूक्तव गोपाल सहस्रनाम के पाठ का विधान है। अधिक पढें ... 

अन्नकूट पर्व व गोवर्धन पूजा :- ३१ अक्टूबर २०१६ सोमवार 
गोवर्धन पूजा यानी संपन्नता का दिन। गोवर्धन रूपी श्रीकृष्ण की पूजा से संपन्नता आती है। गाय को सजाकर उसकी पूजा की जाती है। शाम को 56 भोग लगाकर अन्नकूट महोत्सव मनाने की परंपरा है। इसी दिन श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत उठाया था। अधिक पढें ... 

भाईदूज यानी संस्कारों का त्योहार। यह भाई और बहन के बीच रिश्तों का पर्व है। बहनें भाई के दीर्घायु होने की कामना करती है। भाईदूज के साथ ही पांच दिनी महोत्सव का समापन हो जाता है। इसी दिन भगवान चित्रगुप्त की भी पूजा होती है। अधिक पढें ... 



|| गीता प्रसार परिवार आप सभी के मंगलमय दीपोत्सव की कमना करता है ||

सूची

  • राधा और कृष्ण के विवाह की कथा - श्रीकृष्ण के गुरू गर्गाचार्य जी द्वारा रचित “गर्ग संहिता” में भगवान श्रीकृष्ण और उनकी लीलाओं का सबसे पौराणिक आधार का वर्णन किया गया है। गर्ग संहिता के सोलह...
  • कार्तिक पूर्णिमा - कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा कार्तिक पूर्णिमा कही जाती है। आज के दिन ही भगवान भोलेनाथ ने त्रिपुरासुर नामक महाभयानक असुर का अंत किया था और वे त्रिप...
  • ऋषि पंचमी पर ऋषियों का पूजन अवश्य करें - ऋषि पंचमी पर ऋषियों का पूजन अवश्य करना चाहिए। समाज में जो भी उत्तम प्रचलन, प्रथा-परम्पराएं हैं, उनके प्रेरणा स्रोत ऋषिगण ही हैं। इन्होंने विभिन्न विषयों पर...
  • देवर्षि नारद - नारद मुनि हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक है। उन्होने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। वे भगवान विष्णु के अन...
  • बोध गया - गया जी गया बिहार के महत्त्वपूर्ण तीर्थस्थानों में से एक है। यह शहर ख़ासकर हिन्दू तीर्थयात्रियों के लिए काफ़ी मशहूर है। यहाँ का 'विष्णुपद मंदिर' पर्यटकों ...
  • श्रीकृष्ण ने क्यों माना है ध्यान को जरुरी? - श्रीकृष्ण ने क्यों माना है ध्यान को जरुरी? भागवत में भगवान कृष्ण ने ध्यान यानी मेडिटेशन पर अपने गहरे विचार व्यक्त किए हैं। वैसे इन दिनों ध्यान फैशन का व...

1

0

Random Posts